Derivatives Meaning in Hindi :Easy भाषा में समझे

परिचय (Introduction):

Derivatives Meaning in Hindi ,फाइनेंसियल मार्केट में एक बोहत ही महत्वपूर्ण शब्द है ,जिसके बारे में हर निबेशको को जानना चाइये। ये फाइनेंसियल इंस्टिट्यूट और निबेशको के लिए महत्वपूर्ण उपकरण है, जिनका उपयोग करके अलग अलग फाइनेंसियल Trading की सुरक्षा और लाभ के लिए किया जाता है। इस लेख में, हम जानेंगे Derivativesऔर इनके प्रकार, उपयोग, फायदे, हानियाँ, उदाहरण, महत्व, और और भी बहुत कुछ।

डेरिवेटिव्स क्या होते हैं? Derivatives Meaning in Hindi

Derivatives एक प्रकार के फाइनेंसियल कॉन्ट्रैक्ट्स होते है जो मूल रूप से किसी अन्य एसेट या सामान की कीमत को दर्शाता है। ये कॉन्ट्रैक्ट्स तय करते है की भविष्य में किसी निर्दिष्ट समय पर एक बिशेष एसेट जैसे की स्टॉक्स ,कर्रेंसी ,कमोडिटीज या बांड्स की कीमत किस तरह से बदलेगी।

डेरिवेटिव का उदाहरण (Example of Derivative in Hindi)

उदहारण के लिए मान लीजिये, अगर आपका फल और सब्जियों का बिज़नेस है और ,आपको किसी तरह पता चल जाये की आने वाले दिनों में फल और सब्जियों के कीमत बढ़ने वाले है ,तो आप फल और सब्जियों के फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट खरीद सकते है। और अगर कीमत बढ़ती है तो आपको फायदा होगा ,और अगर कीमत निचे आती है तो आपको नुकसान होगा। ये Futures एक तरह का डेरिवेटिव्स ही है।

Financial Derivatives Meaning in Hindi:

बित्तीय डेरिवेटिव्स एक प्रकार फाइनेंसियल कॉन्ट्रैक्ट होता है। इस कॉन्ट्रैक्ट की मूल भूमिका यह है की यह किसी अन्य फाइनेंसियल उपकरण की अंडरलाइंग एसेट पर आधारित होता है। इन्हे डेरिवेटिव्स इसलिए कहा जाता है किउकी इनकी बेसिक इकनोमिक मूल्य डेरीवेटिव से होती है।

‘वित्तीय डेरिवेटिव्स’ वित्तीय बाजारों का महत्वपूर्ण हिस्सा है, जो निवेशकों को उनके निवेशों को सुरक्षित रखने और लाभ प्रदान करने में मदद करते हैं। इनका मतलब सामजिक और आर्थिक रूप से बढ़ता हुआ है, और वित्तीय जगत के लिए महत्वपूर्ण है।

Equity Derivatives Meaning in Hindi

इक्विटी डेरिवेटिव्स का मतलब है, फाइनेंसियल उपकरण जिन्हें इक्विटी यानि शेयरों से जुड़ा होता है। ये उपकरण होते हैं जो मूल शेयरों के कीमतों के आधार पर काम करते हैं। इनमें सबसे प्रमुख होते हैं:फ्यूचर्स,ऑप्शन्स

डेरिवेटिव कितने प्रकार के होते हैं (Types of Derivative in Hindi)

Types of Derivative in Hindi

 

वैसे तो डेरिवेटिव्स बोहत प्रकार के होते है उनमे से सबसे प्रचलित निम्नलिखित है।

1.स्टॉक डेरिवेटिव्स (Stock Derivatives):

स्टॉक डेरिवेटिव्स एक प्रकार का फाइनेंसियल साधन होता है जो किसी कंपनी के स्टॉक की कीमत के आधार पर निर्मित होता है। यह स्टॉक मार्केट में निबेश करने का एक अच्छा बिकल्प है ,जिसमे आप किसी कंपनी के स्टॉक की कीमत में होनेवाली बदलाव का लाभ उठा सकते है ,बिना उस कंपनी स्टॉक को ख़रीदे या बेचे। इनमें विकल्प (options) और फ्यूचर्स (futures) जैसी विभिन्न प्रकार की डेरिवेटिव्स होती हैं

2. निफ्टी और सेंसेक्स डेरिवेटिव्स (Index Derivatives):

इस प्रकार की डेरिवेटिव्स में, आप एक पूरे शेयर बाजार के कीमत की उतार-चढ़ाव में खिलवाड़ कर सकते हैं, बिना किसी विशेष शेयर को खरीदे। इसके लिए निफ्टी और सेंसेक्स की जानकारी की आवश्यकता होती है। इंडेक्स डेरिवेटिव्स का उपयोग फाइनेंसियल संविदानों, हिस्सेदारी के योजनाओं, और जोखिम प्रबंधन के उद्देश्यों को पूरा करने के लिए किया जाता है, और इसका उपयोग निवेशकों को विभिन्न प्रकार की नुकसान से बचाने में भी किया जा सकता है।

3. कमोडिटी डेरिवेटिव्स (Commodity Derivatives):

कमोडिटी डेरिवेटिव्स में, आप इंसानो द्वारा उत्पादित सामग्री जैसे कि सोना, चांदी, कृषि उपज, और पेट्रोलेयम के लिए डेरिवेटिव्स कर सकते हैं। यह आपको सामग्री के अच्छे कीमत की उम्मीद करने में मदद कर सकता है।

कम्मोदती डेरिवेटिव्स के माध्यम से Trader और निवेशक सामग्री के कीमत में होने वाले बदलाव का लाभ उठा सकते हैं, लेकिन यह उनके लिए भी जोखिमपूर्ण हो सकता है। यह एक प्रकार का वित्तीय डेरिवेटिव होता है जिसमें सामग्री के मूल्यों के आधार पर सौदों की जाती हैं।

4.ऑप्शन्स डेरिवेटिव्स (Options Derivatives ):

ऑप्शन्स डेरिवेटिव्स एक प्रकार के समय सीमित खरीददारी के अधिकार को दर्शाते हैं। इसका मतलब है कि आप एक स्टॉक को एक निश्चित मूल्य पर खरीदने या बेचने का अधिकार रखते हैं, लेकिन आपके लिए ये करना अनिवार्य नहीं होता।

5. स्वैप्स (Swaps):

स्वैप्स एक अनोखा प्रकार का डेरिवेटिव होता है जिसमें दो पक्षों के बीच स्वापित करने का समझौता होता है। यह वित्तीय उपकरण ब्याज दरों के परिवर्तन को प्रबंधित करने में मदद करता है और वित्तीय संरक्षण प्रदान करता है।

ये Derivatives के कुछ प्रकार में से है ,जो फाइनेंसियल मार्केट में उपयोग होते है। आपके फाइनेंसियल लक्ष और अकाउंट प्रबंधन(Management) की जरूरतों के हिसाब से आप इनमे से किसी को चुन सकते है। लेकिन डेरिवेटिव्स के साथ खेलने से पहले ,आपको इनके साथ जानकारी हासिल करनी चाइये और सही निबेश रणनीति बनानी चाइये।

डेरिवेटिव्स के उपयोग (Uses of Derivatives):

Uses of Derivatives

 

 

डेरिवेटिव्स यह एक ऐसी फाइनेंसियल उपकरण है जिसका उपयोग आपने शायद ही किसी दिन अनुभव किया हो, विशेष रूप से जब आपने किसी दुकान से सामान खरीदा हो। तो आइये जानते इसके उपयोग के बारे में।

हेजिंग (Hedging):

यदि आप फाइनेंसियल बाजार में निवेश करते हैं तो डेरिवेटिव्स का उपयोग अपनी निवेशों की सुरक्षा के लिए कर सकते हैं। यह आपको अनिश्चितता से बचाव करने में मदद करते हैं।

निवेश (Investment):

डेरिवेटिव्स का प्रयोग निवेश के लिए भी किया जा सकता है। इन्हें निवेश के लिए उपयोग करके आप विभिन्न वित्तीय इन्दुस्ट्री में पूंजी लगा सकते हैं।

मार्जिनिंग (Margining):

डेरिवेटिव्स का उपयोग मार्जिनिंग के लिए भी किया जाता है। यह निवेशकों को अधिक मार्जिन रखने की अनुमति देता है, जिससे उन्हें अधिक वित्तीय उपकरणों में निवेश करने की स्वतंत्रता मिलती है।

कीमत की निर्धारण (Price Discovery):

डेरिवेटिव्स वित्तीय उपकरणों के कीमतों की निर्धारण में मदद करते हैं। ये वित्तीय बाजार में उपस्थित अनिश्चितता को कम करने में सहायता प्रदान करते हैं।

डेरिवेटिव्स के फायदे और हानियाँ (Pros and Cons of Derivatives):

डेरिवेटिव्स में निबेश करना जितना लाभदायक है उतना है नुकसान दायक भी है। निम्नलिखित इसके फायदे और नुकसान के बारे में बात करेंगे।

Pros:फायदे

1. वित्तीय सुरक्षा:(Financial Security)

डेरिवेटिव्स निबेशको को फाइनेंसियल सुरक्षा प्रदान कर सकते है। उन्हें उनके निवेशों की रक्षा करने का एक तरीका प्रदान करते हैं, क्योंकि वे डेरिवेटिव्स के माध्यम से अपने निवेश को हेज(Hedge ) कर सकते हैं। जिससे की नुकसान कम हो जाता है।

2. लाभकर:(Profitable )

डेरिवेटिव्स का उपयोग निवेशकों को लाभकर कमाने का मौका देता है। वे अलग अलग फाइनेंसियल उपादानों का लेन देन करके ट्रेडिंग कर सकते हैं और मुनाफा कमा सकते हैं।

3. फाइनेंसियल निवेश का प्रबंधन:

डेरिवेटिव्स निवेशकों को अपने फाइनेंसियल निवेश को प्रबंधित करने का मौका देती हैं। वे निवेश के रिस्क को कम करने और निवेश को बेहतर तरीके से प्रबंधित करने के लिए अलग अलग डेरिवेटिव्स का उपयोग कर सकते हैं।

नुकसान:(Cons)

1. जोखिम(Risks ):

डेरिवेटिव्स के उपयोग में निबेशको को जोखिम हो सकता है।अगर डेरिवेटिव्स का सही तरीके से उपयोग नहीं करते है तो निबेशक़ अपने निबेश किये हुए सारे पैसे खो सकते है। इसलिए सबसे पहले ज्ञान और जानकारी लीजिये और डेरीवेटिव को बेहतर ढंग से सीखे।

2. निष्पादन की कठिनाई:

डेरिवेटिव्स का उपयोग करना अत्यंत कठिन हो सकता है। इसकी समझ और प्रशासनिक जटिलता से निपटना मुश्किल हो सकता है। इसलिए ध्यान पुर्बक डेरिवेटिव्स में निबेश करे।

 अगर आप वित्तीय बाजार में निवेश करने का विचार कर रहे हैं, तो डेरिवेटिव्स के लाभ और हानि को समझना महत्वपूर्ण है।

डेरिवेटिव्स का इतिहास (History of Derivatives):

History of Derivatives

डेरिवेटिव्स का इतिहास बहुत पुराना है। ये फाइनेंसियल उपकरण पहले से ही समाज में उपयोग हो रहे थे, लेकिन उनका आधुनिक रूप से प्रयोग विकसित होने में समय लगा।

किसानों का उपयोग:

डेरिवेटिव्स का सुरुवाती उपयोग किसानों ने द्वारा हुआ था। वे अपनी फसलों की मूल्य सुरक्षित करने के लिए आग्रहित थे। इसके लिए, वे आपस में समझौतों करके सौदों करते थे। इससे उन्हें अपनी फसलों के मूल्य को उतर चढ़ाओ से बचाने का मौका मिलता था।

व्यापारिक उपयोग:

समय के साथ साथ , डेरिवेटिव्स का उपयोग ट्रेडिंग उद्देस्य के लिए बढ़ गया। निबेशको ने इसे स्टॉक और कमोडिटी बाजार में कीमत को निर्धारित और लेन -देन के लिए उपयोग करते है।

फाइनेंसियल निवेश में डेरिवेटिव्स:

डेरिवेटिव्स का वित्तीय(Financial) निवेश में उपयोग आजकल बहुत ही प्रमुख हो गया है। यहाँ पर फाइनेंसियल कंपनियां, वित्तीय व्यक्तिगता, और फाइनेंसियल प्रशासन के क्षेत्र में उपयोग हो रहा है।

निष्कर्षण (Conclusion):

डेरिवेटिव्स वित्तीय बाजारों में महत्वपूर्ण हैं और इनका उचित उपयोग फाइनेंसियल सुरक्षा को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है। निवेशकों को समझना चाहिए कि डेरिवेटिव्स के साथ सावधानी बरतना महत्वपूर्ण है और उन्हें उनके निवेश लक्ष्यों के साथ इन्हें उपयोग करना चाहिए।

Frequently Asked Question about Derivatives (FAQ):

1. Derivatives क्या हैं?

डेरिवेटिव्स एक वित्तीय उपकरण हैं जिनका मूल्य दूसरे वित्तीय उपकरण के मूल्य पर आधारित होता है। इसके माध्यम से वित्तीय विपणीकरण और हिस्सेदारी की कार्यक्षमता बढ़ाई जा सकती है।

2. डेरिवेटिव्स का उपयोग क्यों किया जाता है?

डेरिवेटिव्स का उपयोग वित्तीय जोखिम प्रबंधन, मूल्य की सुरक्षा, और वित्तीय लेन-देन की सुविधा के लिए किया जाता है। यह निवेशकों को मूल्य की उतार चढ़ाव से बचाने में मदद कर सकता है।

3. डेरिवेटिव्स किस तरह से काम करते हैं?

डेरिवेटिव्स का कीमत बाजार में उपकरण के कीमत के आधार पर तय होता है। उन्हें फाइनेंसियल निवेशक खरीदते हैं और बेचते हैं, जिनसे वे कीमतों की उतार चढ़ाव से लाभ कमा सकते हैं।

4 . क्या डेरिवेटिव्स जोखिमपूर्ण हैं?

हां, डेरिवेटिव्स जोखिमपूर्ण हो सकते हैं। यह निवेशकों के लिए नुकसान के साथ लाभ भी लाने की क्षमता रखता हैं, इसलिए सावधानी से उपयोग करना महत्वपूर्ण है।

5. कैसे डेरिवेटिव्स खरीदे जा सकते हैं?

डेरिवेटिव्स को फाइनेंसियल मार्केट में खरीदा जा सकता है, जिसके लिए आपको एक ब्रोकर का सहायता लेना होता है। आपको एक खाता(Account ) खोलने की आवश्यकता हो सकती है।

6. डेरिवेटिव्स लिये जाने वाले निवेशकों की क्या आवश्यकताएं होती हैं?

डेरिवेटिव्स में निवेश करने से पहले, आपको वित्तीय ज्ञान और अनुभव की आवश्यकता होती है। आपको बाजार के परिपर्णता को समझने की आवश्यकता होती है।

7. डेरिवेटिव्स से कितना लाभ किया जा सकता है?

डेरिवेटिव्स से कितना लाभ किया जा सकता है, यह आपके निवेश की प्रकृति और बाजार की स्थिति पर निर्भर करता है। वे लाभ और हानि के साथ आते हैं, और निवेशकों को जोखिम को समझकर काम करना चाहिए।

8. क्या Derivatives निवेशकों के लिए हैं?

डेरिवेटिव्स निवेशकों के लिए हो सकते हैं, लेकिन यह उनके वित्तीय लक्ष्यों और जोखिम सहिष्णुता पर निर्भर करता है। वित्तीय सलाहकार की सलाह लेना और अच्छी तरह से अध्ययन करना उनके लिए महत्वपूर्ण हो सकता है।

7 thoughts on “Derivatives Meaning in Hindi :Easy भाषा में समझे”

Leave a Reply