Dividend Meaning in Hindi :डिविडेंड क्या है ?

अगर आप शेयर मार्केट में है तो Dividend Meaning in Hindi – के बारे तो सुना होगा ,ये भी सुना होगा की बढ़े बढ़े इन्वेस्टर्स डिविडेंड से लाखो करोड़ो कमा रहे है। और अगर आप नहीं जानते की ये क्या है? तो आज इस लेख के द्वारा आपकी सारि जिज्ञासा ख़तम हो जाएगी।आज आप इस लेख में जानेंगे :

1.डिविडेंड क्या है ? उदाहरण

2.डिविडेंड यील्ड क्या है?

3.डिविडेंड के प्रकार

4.डिविडेंड की महत्वपूर्ण तारीखें

आगे बढ़ने से पहले इसके बारे में थोड़ा जान लीजिये।

जब कोई कंपनी प्रॉफिट कमा लेती है ,तो प्रॉफिट में से कुछ हिस्से अपने शरधारको Share Holder  में बांठ देती है डिविडेंट(Dividend) के जरिये, यानि शेयरधारको को मुफ्त की कमाई।

है न मजेदार !!!

डिविडेंड क्या होता है ? – Dividend Meaning In Hindi

Dividend का हिंदी में मतलब होता है लाभांश। ये शब्द को अगर देखे तो इसमें ” लाभ ” और “अंश ” है ,यानि प्रॉफिट का हिस्सा।इस हिस्से को कंपनी अपने Shareholders में बाँट देती है।

शेयर मार्केट में 2 प्रकार की कम्पनिया है जो डिविडेंड देती है। एक है Large Cap कंपनी और दूसरी है वो जिनको अपना डिविडेंड रिकॉर्ड अच्छा रखना है। ऐसे बोहत सारे कम्पनिया है जो लॉस कर रही है और साथ ही अपने Shareholders को डिविडेंड भी दे रही है।

कोई कंपनी डिविडेंड दे रही इसका मतलब ये नहीं होता की वो कंपनी प्रॉफिटेबल हो। डिविडेंड देना या ना देना ये कंपनी के Board Of Directers के हाथो में रहता है।कभी भी कोई नयी कंपनी या ग्रोइंग कंपनी डिविडेंड नहीं देती है।

Dividend का उदाहरण (Example of Dividend In Hindi)

मान लीजिये , XYZ कंपनी में अपने निबेश किया है ,और उसके 10000 शेयर आपके Demat Account में है।अब वो कंपनी डिविडेंड Announce करती है। तक़रीबन 10 Rs Per शेयर यानि हर एक शेयर में 10 रूपए।

आपके पास उस कंपनी के 10000 शेयर है तो चलिए कैलकुलेट करते है।

Per share Dividend= 10 rs

10000 x 10 =100000 rs

आपको 100000 रूपए डिविडेंड प्राप्त होंगे।

ये पैसे आपके Bank Account में आ जायेंगे। सबसे मजेदार बात तो ये है की इसमें कोई टैक्स(TAX) नहीं लगता।

डिविडेंड यील्ड क्या है?(Dividend Yield in Hindi)

डिविडेंड यील्ड का मतलब होता है , कंपनी की जो शेयर प्राइस है उसके मुताबिक कितने प्रतिशत (%) डिविडेंड कंपनी देगी।

इसे एक उदहारण से समझते है।

मान लीजिये ABC कंपनी की शेयर की प्राइस 100 Rs है , और उस कंपनी की डिविडेंड यील्ड है 3% तो उस कंपनी की डिविडेंड भी 3rs Per share होगी।

What are the Different Types of Dividends in Hindi?

अगर आप जानना चाहते है की कितने तरह के डिविडेंड्स होते है तो आगे पढ़ते रहे।

1.Cash Dividend:

ये सबसे आम डिविडेंड प्रकार है , जो नगदी में मिलता है। एक कंपनी अपने प्रॉफिट के कुछ हिस्से अपने शरहोल्डर्स को Cash Dividend के रूप में उनके बैंक अकाउंट में ट्रांसफर करती है।

उदहारण के तौरपे मान लिए ,XYZ कंपनी 2023 में 500 करोड़ का प्रॉफिट कमाई, उसमे से 20% शेयरहोल्डर को भुकतान किया। जो की लगभग 100 करोड़ होते है।

नकद डिविडेंड के फायदे और नुकसान कंपनी की Financial स्थिति पर निर्भर करते हैं। एक ओर, शेयरधारकों को नकद के रूप में डिविडेंड भुगतान करने से लाभ हो सकता है; दूसरी ओर, कंपनियों के पास अपने व्यवसायों में दुबारा निबेश करने के लिए कम पैसा है, जो ग्रोथ क्षमता को सीमित कर सकता है।

2.Stock Dividend:

हालाँकि नाम से पता चल रहा होगा ,स्टॉक डिविडेंड वो होता जिसे कंपनी नगद डिविडेंड के बदले में देती है। जब कंपनी के पास पर्याप्त नगद नहीं होता है शेयर धारको को देने के लिए, तभी कंपनी ये कदम उठाती है। Bonus Share के रूप में।

मान लीजिये आपके पास XYZ कंपनी के 200 शेयर है ,अब कंपनी बोनस शेयर जारी करती है  4 :1 का। इसका मतलब ये होता है की हर एक शेयर में 4 शेयर बोनस मिलना।

यानि आपके पास 200 शेयर है तो उसमे X 4 करे तो 800 होता है, आपके 200 शेयर 800 में तब्दील हो जायेंगे।

3.Property Dividend:

ये डिविडेंड का वो प्रकार है जिसमे ना तो नकद दिया जाता है और ना ही शेयर दिया जाता है। इसके बदले में कंपनी Asset या संपत्ति देती है डिविडेंड के रूप में।

Property डिविडेंड का फायदे यह है कि वे Investment Portfolio में विविधता(diversification ) ला सकते हैं और दूसरे प्रकार के डिविडेंड की तुलना में अधिक Tax फायदे प्रदान कर सकते हैं।

नुकसान यह है कि इस बात का जोखिम हमेशा बना रहता है कि समय के साथ इस प्रकार की संपत्तियों का मूल्य घट सकता है, जिससे मिलने वाला रिटर्न सीमित हो जाएगा।

4.Scrip Dividend:

Scrip डिवीडेंस बिलकुल स्टॉक डिविडेंड जैसा ही होता है। लेकिन शेयर देने के वजाय कंपनी अपने शरहोल्डर्स को Scrip या वाउचर देती है जो फिनांशल मार्केट में शेयर में बदला जा सकता है।

उदाहरण के लिए, XYZ कंपनी अपने शेयरधारकों को अपने मुनाफे का 10% स्क्रिप डिविडेंड के रूप में भुगतान करने का निर्णय लेती है। इसका मतलब यह होगा कि प्रत्येक शेयरधारक को 50 लाख रुपये (500 करोड़ x 0.10) मूल्य की एक स्क्रिप प्राप्त होगी जिसे बाद में बाजार शेयरों के लिए बदला जा सकता है।

डिविडेंड की महत्वपूर्ण तारीखें (Important Dates of Dividend Meaning in Hindi)

ऐसे बोहत से कम कम्पनिया है जो डिविडेंड मासिक देती हो ,वगेर इसके कम्पनिया या तो तीन महीने में या साल में डिविडेंड देती है। हलाकि फाइनेंसियल मार्केट में हर दिन शेयर्स का लेन देन होता रहता है ,

तो कंपनियों को कैसे पता चलता है की डिविडेंड किन शरहोल्डर्स को दे ??

इसे जानने के लिए आगे पढ़े।….

पहले कंपनी Declaration Date पर Ex -Dividend date ,Record Date और Payment date घोषित करती है। इनके बारे गहराई से समझते है।

1.Declaration date: ये वो तारीख होता है जिसदिन कंपनी Ex -Dividend date ,Record Date और Final date  घोषित करती है।

2.Ex -Dividend date:यह वह तारीख है जिसके पहले आपको डिविडेंड प्राप्त करने के लिए स्टॉक खरीदना होगा। इस दिन, तक अगर आपके डीमैट अकाउंट में शेयर नहीं आया तो आपको डिविडेंड नहीं मिलेगा।

3.Record date:यह वह तारीख जो रिकॉर्ड के सभी शेयरधारकों को निर्धारित करती है ,जो डिविडेंड पाने के हकदार हैं। यह तारिक आमतौर पर Ex -Dividend तारिक के दो दिन बाद आती है।

4.Payment date:ये उस तारीख को अहा जाता है जिसदिन डिविडेंड आपको मिलती है। आमतौरपे ये Record Date के 1 महीने बाद होता है।

Frequently Asked Question:

Q.डिविडेंड का मतलब क्या होता है?

A. Dividend का हिंदी में मतलब होता है लाभांश। ये शब्द को अगर देखे तो इसमें ” लाभ ” और “अंश ” है ,यानि प्रॉफिट का हिस्सा।इस हिस्से को कंपनी अपने Shareholders में बाँट देती है।

Q.डिविडेंड कब और कैसे मिलता है?

A.जब कम्पनिया प्रॉफिट कमाती है तो वो डिविडेंड देती है अपने शरहोल्डर्स को। लेकिन ये Board of Directers के ऊपर निर्भर करता है की कंपनी डिविडेंड देगी या नहीं।

Q.डिविडेंड कितने दिन में मिलता है?

A.डिविडेंड भुगतान 2 व्यावसायिक दिनों में प्राप्त होता है।
Q.डिविडेंड साल में कितनी बार मिलता है?
A.कुछ कंपनियां साल में 2-3 बार डिविडेंड देती हैं, कुछ एक बार देती हैं।

Conclusion:

इस लेख हमने जाना डिविडेंड्स के बारे में। डिविडेंड्स स्टॉक में निबेश करके आप एक रेगुलर इनकम बना सकते है, लेकिन ये हमेशा याद रखे की अच्छा डिविडेंड देने वाला हर स्टॉक अच्छा नहीं होता और हर अच्छा स्टॉक डिविडेंड नहीं देता।
आखिर में एक चीज़ कहना चाहूंगा की शेयर मार्केट में निबेश करने से पहले किसी बिशेषग्य की सलाह जरूर ले।
में आशा करता हु की आपको ये ब्लॉग पसंद आया । निचे कमेन्ट अपना राय देना ना भूले।

Leave a Reply